कारगिल दिवस

देसारे तिन्हां मुरीदां जो औआ मिली ने याद करिए
कारगिल दे शहीदां जोऔआ मिली ने याद करिए.

पछाड़ी पकिस्तानी सेना टाईगर हिल्ला तिरंगा फहराया
धन्य धन्य सैह बीर महारे तोलोलिंग पर कब्जा जमाया

याद करिए उन्हां सूरमेयाँ मुड़ी जेहड़े घरें नी आए
याद करिए तिन्हां योद्धयाँ बूंद बूंद जेह्डे़ लहु बहाये

सुकूनेनै असां सौंदे राती सलाम तिन्हां पहरेदारां जो
सीने पर खादी जिन्ह़ा गोलियांँ मारेया सौ- सौ मक्कारां जो

तड़पया आंचल माऊ दा भैणा दी रखड़ी रोई
कुमकुम बिंदी बीरांगना दी मत्थे ते गेई पुंँजोई

दितियाँ जिन्हां कुर्वानियाँ दुस्मणे जो मारी भगाया
असला मस्ला छड्डि नस्सा रस्ता तिसजो नज़र नी आया

जित्थूते दुस्मण चलाए गोली चौकियाँ सैह दित्तियाँ उड़ाई
बम बरसाये उपरे तै बकलोया दुस्मण समझ नी आई

गूँज तुहाड़ी शहादता दी पूरे देसें खूब जे होई
धन तुसां ओ वीर जवानों हर कुसी दी हाख थी रोई

तोलोलिंग दी पहाड़ियाँ ऊपरा गोलेयां दी भरमार थी
छाती ताणी वीर खड़ोते भारत माँ दी जय जयकार थी

फतहे कित्तियाँ केई चोटियाँ युद्ध होया ताह्लू घनघोर
बोल्या कैप्टन विक्रम बत्रा ये दिल मांगे मोर

याद करा उन्हां वीरां जो सरहदा पर दित्ति जान जिन्हां
उन्ह़ा वीरांगना जो याद करा सुहागां दे वारे प्राण जिन्हां

याद करा उन्हां माऊँ जो खोए जिन्हां सपूत अपणे
याद करा उन्हां भैणा जो रखड़िया दे टुट्टे सुपणे

याद करा उन्हां पिओआं जो मोण्डे जिन्हां दे टुटीगै
सारी उम्र कटणी किह्याँ कर्म जिन्हां दे फुटीगै

मत बजान्दे तुसां ताल़ियाँ अथरू दो बहाई लैन्यो
कुर्वानी अमर शहीदा दीं जमाने जो सुणाई लैन्यो

सुरेश भारद्वाज निराश
धर्मशाला हिप्र