हिमाचल में सबसे कम भ्रष्टाचार, कर्नाटक में सबसे ज्यादा

  •  देश के 20 राज्यों में एक सर्वे नीति आयोग ने कराया है ताकि भ्रष्टाचार का अंदाजा लगाया जा सके। इस सर्वे के अनुसार हिमाचल प्रदेश सबसे कम भ्रष्ट राज्य है। हिमाचल के साथ-साथ केरल और छत्तीसगढ़ भी देश के अन्य राज्यों की तुलना में कम भ्र्ष्टाचार हैं। इस सर्वे के मुताबिक जिन लोगों से इस संबंध में बातचीत की गई थी, उनमें से सिर्फ तीन प्रतिशत को काम करवाने के लिए रिश्वत देनी पड़ी थी।CMC के इस सर्वे में कर्नाटक को सबसे भ्रष्ट प्रदेश पाया है। करप्शन के मामले में इसके बाद आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, जम्मू कश्मीर और फिर पंजाब का नंबर आता है। 20 राज्यों में शहरी और ग्रामीण इलाकों के 3 हजार लोगों की राय ली गई। इस दौरान पूछा गया कि पिछले 1 साल के दौरान सरकारी काम करवाने में कितनी बार करप्शन से वास्ता पड़ा। पता चला कि पूरे देश में करीब 1 तिहाई लोगों को कम से कम एक बार रिश्वत देनी पड़ी। इससे पता चलता है कि हिमाचल प्रदेश की स्थिति अन्य राज्यों से कितनी अच्छी है।
  • साल 2005 में भी इस तरह का एक सर्वे किया गया था। उस सर्वे में 53% लोगों ने माना था कि उन्हें रिश्वत देनी पड़ी थी। इस तरह से 2005 के मुकाबले करप्शन कम होता नजर आ रहा है। इस रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि साल 2017 में 20 राज्यों के 10 सरकारी महकमों में लोगों ने 6,350 करोड़ रुपये घूस के तौर पर दिए जबकि 2005 में यह आंकड़ा 20,500 करोड़ रुपये था।इस सर्वे में शामिल आधे से ज्यादा लोगों का मानना है कि  2016 के आखिर में सरकार द्वारा उठाए गए नोटबंदी के कदम के बाद करप्शन में कमी आई है।