हिमाचल की इस बेटी की चाहिए आपका सहयोग

दुनिया की सबसे कम उम्र की पर्वतारोही आकृति हीर किसी परिचय की मोहताज नहीं। इस बेटी ने 20 साल की उम्र में अपना नाम दुनिया के सबसे कम उम्र की महिला पर्वतारोहियों में दर्ज करवा लिया है। और लिम्का वर्ल्ड रिकॉर्ड बुक में भी स्थान पाया है।
परिचय:- 
आकृति हीर मूलतः हिमाचल प्रदेश जिला कांगड़ा के सुल्याली गांव से रहने वाली है। आकृति के पिता श्री कृष्ण चन्द सरकारी नोकरी में है और माता गृहणी एक भाई और बहन है।
 
उपलब्धियां:- 
इस छोटी सी उम्र में आकृति कई विश्व कीर्तिमान स्थापित कर चुकी है। वर्ष 2014 में मात्र 20 साल की उम्र में ही यूरोप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलब्रस को फतह कर भारतीय तिरंगा 18150 फुट की ऊँची चोटी पर लहराया और भारत की सबसे कम उम्र की लड़की बनी।
2012 में उत्तराखंड के नेहरू इंस्टिट्यूट से से ट्रेनिंग लेकर आकृति अब तक दुनिया की 7 सबसे ऊंची चोटियों को फतह कर चुकी है।
आकृति को प्राइड ऑफ़ हिमाचल सम्मान भी मिल चुका है।
बेटी के सपनों को पूरा करने के लिए पिता कृष्ण चन्द ने 3 लाख का कर्ज लिया है और बेटी ने साहस दिखाते हुए पिता का सर फक्र से ऊँचा किया और अपना नाम लिम्का वर्ल्ड बुक में दर्ज करवाया।
मिशन माउंट एवरेस्ट:- 
अब आकृति का सपना है दुनिया की सबसे ऊंची चोटी को फतह करने का और इसके लिए आकृति को आपकी मदद चाहिए।
https://www.bitgiving.com/aakritiheer/
इस में कुल खर्च आएगा 20 लाख रूपये। और इतनी बड़ी रकम ने इस युवा पर्वतारोही के कदमो को रोक दिया है। अगर आकृति इस मंजिल को पंहुचती है तो हिमाचल के लिए भी गर्व की बात होगी। इसीलिए आकृति ने एक कैंपेन शुरू किया है आप भी इसमें सहयोग कर सकते है ताकि आकृति को उसकी मंजिल मिल पाए। नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके आप इस कंपेन का हिस्सा बन सकते हैं।
https://www.bitgiving.com/aakritiheer/
आशीष बहल चुवाड़ी जिला चम्बा
9736296410