शीर्षक (पहाड़ी अठ्ठवें शैड्यूले च पुआणी)
मेरा मन गल्लाए मित्तरो, पहाड़ी अठ्ठवें शैड्यूले च औणीं ।
सब्बोई रल़ी मिली़ न्नैं बोल्लण, सरकारा तैं एह गल्ल ऐ मन्नाणी।
विरेंद्र पिच्छैं लग्गी गेया मित्तरा, मनाई न्नैं छड्डणी गल्ल अपणी मनुआणी ।
सरकार एह सुतिओ सारेयां जगाणीं, पहाड़ी अठ्ठवें शैड्यूले च पुआणी ।
सिद्धे हत्थे घ्यो न निकल़े, तां कड़छी पुट्ठे दाएं घुमाणी।
कदी कदी अक्खीं तरेरी मित्तरो, सिक्खा अपणी गल्ल कियां मनुआणीं ।
जिस्स भाषा करी सूबा मिलेया, न्नैं कुर्सियाँ इन्हां नेतेआं मल्लिआं।
तिस गल्ला कियां भुल्ली बैठे सैह्, गल्ल एह अज्ज तिन्हां जो याद कराणीं।
पहाड़ी तां अठ्ठवें शैड्यूले च जरूर पुआणी, मां भाषा ताईं जे लड़ना पौऐ।
तां वी पिच्छैं नीं हट्ठणा मित्तरो, झटपट एह गल्ल सरकारा जो सुनाणी।
परिमल सच्च सच्च बोलै मित्तरो, पहाड़ी अठ्ठवें शैड्यूले च अस्सां पुआणी ।।
नंदकिशोर परिमल, गांव व डा. गुलेर
तह. देहरा, जिला. कांगड़ा (हि_प्र)
पिन 176033, संपर्क 9418187358