कविता/ नवीन हलदूणवी

.
कित्तणा-क लाणा ऐं पड़दा,
नौल़-नखट्टू म्हेशा लड़दा।

देस्से दी करियै बुरिआई,
गल्ला परती मूरख अड़दा।

अणमुक अप्पू करी घुटाल़े,
बेह्ला बूस्सर घाड़े घड़दा ।

वगत पौणे प’ न्हस्सी पौंदा,
वेगुरपीरा डुड्डीं बड़दा ।

भारत करै “नवीन” तरक्की,
दुसमण बी स्हाड़े ते सड़दा।।

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा, हिमाचल।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *