प्यारी सी गुड़िया जो अब इस दुनियाँ में नहीं है को समर्पित

ग़ज़ल

चादरुए मेरे खरे कित्ते, रंगी दे ललारिया
मोआ कैंह रैंहदा हरदम, घोडें दी सवारिया।

चलया घराट फिरी पीणा लग्गा दाणे
पता नी कैंह पाणी रुकै,म्हेशा मेरी बारिया।

पी पी शराबां तुसां सारे होईगै टुन
घरैं बैठयो मिंजो कैंह, मारीत्ता खुमारिया।

किह्यां करी खेलां मैं होल़ी तेरे कनै
मारी मारी मिंजो लेईगै, छोरु पिचकारिया।

इक मण दाणें दित्ते कल साहुएं मिंजो
लाई छडया साल भर, मिंजो तिन्नी जुआरिया।

मेरे पल्लैं टप्परु नी, ना ही मिल्लै रोटी
मेरे ते तां खरा तूएं, मित्रा भखारिया।

कोई पास्सा दुस्सै नीं जां तां मैं कुथु जां
जीणा हुण खोटा मेरा, मारीत्ता धुआरिया।

आईगै ने दरिन्दे भाऊ! हुण मेरे म्हाचले
प्यारी देई गुड़िया मोयां मारी लाई लारिया।

तरना तां औंदा नी था तूं कज्जो मारी चुभ्भी
माऊ दा इक्को जाया डुब्या, पैहली तारिया।

बड़ा सोचया नी मिल्ला निराश शे’र मिंजो
मेरे सांई तिसजो भी, मारीत्या बमारिया।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी, लोअर बड़ोल
पी.ओ.दाड़ी, धर्मशाला हि.प्र
176057
मो० 9805385225
Photo:

BharatKaKhajana (http://www.bharatkakhajana.com)