“एह् दुनियां”

एह् दुनियां लाई – लग्गां दी,
जां चोर लुट्टेरे ठग्गां दी ।
इत्थू मन्नतां हुंदी डग्गां दी ,
नैंइ इज्जत रैह्णी पग्गां दी ।।

एह् दुनियां मौज़ ब्हारां दी ,
भई पैसे – धेल्ले कारां दी ।
इत्थू पूज्जण लोक गुआरां की,
जां झूठे चज्जां – चारां की ।।

एह् दुनियां झूठे यारां दी ,
इत्थू बोल्ली होवे नारां दी ।
अग्ग लग्गी अज्ज वपारां की ,
जां दो दिलां दे प्यारां की ।।

एह् दुनियां मन्नैं जोरे जो ,
फिट्ट लानत दै कमजोरे जो ।
जां जफियां मारै चोरे जो ,
ते गोल़ी मारै मोरे जो ।।

एह् दुनियां बैह्मा-भरमां दी ,
जां थां-थां बिक्खरे धर्मां दी ।
भई कम्म कमांदे सरमां की ,
कैंह् लानत दिंदे कर्मां की ??

एह् दुनियां चाचे भतीजे दी ,
जां नोट्टां भरियो गीज़े दी ।
अज्ज साल़ी बणियों जीजे दी ,
कनैं वगत पौणे प’ तीजे दी ।।

एह् दुनियां सट्टवसट्टी दी ,
हर सिऊंतर इसदी फट्टी दी।
दे सेर भुनाई बट्टी दी ,
भई भट्ठैलण बोल्लै भट्ठी दी।।

एह् दुनियां टट्टू भाड़े दी ,
इत्थू धप्फे पौंदे माड़े की ।
अज्ज खेत्तर पिट्टण बाड़े की ,
कनैं लाड़ी पिट्टै लाड़े की ।।

एह् दुनियां तां प्रकाशकां दी ,
जां चांदी अज्ज संपादकां दी ।
कनैं फोक्की चौधर मालकां दी ,
कुण पुच्छदालेखकां-लाखकां की??

एह् दुनियां हिरखैं रज्जी दी ,
कुण जाणैं सज्जी-खब्बी की ?
ते ‘नवीन’ गलाए गज्जी की ,
के करनी कुर्सी जज्जी दी ??

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा , हिमाचल l