Shanidev temple Chowari आस्था का प्रतीक

चुवाड़ी के शनि मंदिर में है ये अदभुत शनि शिला
मित्रो हमारे देश भारत मे भगवान के प्रति गहन आस्था है और हमारी इस धरती को ऋषि मुनियों की धरती कहा जाता है जंहा विज्ञान और आस्था साथ मे पली बढ़ी हैं।  और यंहा आस्था, विश्वास ओर विज्ञान का ऐसा सामंजस्य है कि भगवान पर आस्था भी बरकार है और विज्ञान में उन्नति भी हो रही है।
आज भारत के खजाना में आपको ले चलते हैं एक ऐसे ही रहस्यमयी मंदिर की ओर। ये शनिदेव भगवान का मंदिर हिमाचल प्रदेश के जिला चम्बा के बहुत ही खूबसूरत स्थान चुवाड़ी उपमंडल में स्थित है।

Chowari city view

पठानकोट से 55 km दूर और जिला मुख्यालय चम्बा से 48 km की दूरी पर स्थित है चुवाड़ी शहर जो अपनी खूबसूरती के लिए जाना जाता है।

मंदिर की स्थापना:-

Shani shila ki sthapna

ये मंदिर लगभग 15 वर्ष पहले चुवाड़ी रायपुर सड़क पर कलम खड्ड के बायीं ओर बना है। इस मंदिर को बहुत अच्छे तरीके से सभी चुवाड़ी वासियों ने मिलकर बनवाया। यंहा किसी समय मे लोग आने जाने से डरते थे नजदीक श्मशान घाट होने से यंहा लोग इस तरफ कम ही आते थे। यंहा श्मशान घाट के नजदीक छोटी सी एक बाबा की कुटिया थी। यंहा ठहरने वाले कुछ साधुओं ने यंहा मंदिर बनाने का संकल्प लिया और इस उजाड़ जगह को एक शानदार पर्यटन स्थल बना दिया।

कुदरत ने स्वयं स्थापित की शिला:-

इस मंदिर की सबसे आश्चर्यजनक बात है यंहा पर एक विशालकाय शिला की स्थापना जो कुदरत ने खुद की है। आज से ठीक 6 साल पहले 7 जुलाई 2011 को शाम 5 बजे मंदिर के ठीक पीछे पहाड़ से
3-4 बड़े पत्थर गिरे जिसमे से 1 भीमकाय पत्थर मंदिर की दायीं तरफ से आकर मंदिर  में प्रवेश कर गया और वंही पर स्थापित हो गया। शिला इतनी बड़ी थी कि किसी भी बड़े से बडे मकान की ध्वस्त कर सके इसका वजन कई टन होगा। उस विशाल पत्थर को देख कर कोई भी हैरत में पड़ जाए कि आखिर इतना बड़ा पत्थर मंदिर के अंदर कैसे आ गया और मंदिर को किसी प्रकार का नुकसान भी नही पँहुचा। पत्थर को न तो उस जगह से 1 इंच भी सरकाया गया और न ही आवश्यकता महसूस हुई या यूं कहें कि उसे हिलाना असम्भव है क्योंकि इसने मंदिर के ऐसे हिस्से में खुद को स्थापित किया जंहा इसे होना चाहिए था। न तो मंदिर के गेट को रोका न ही परिक्रमा करने में अवरोध पैदा हुआ ऐसे चमत्कारिक ढंग से ये प्रतिमा स्थापित हुई है। शनि महाराज की मूर्ति के आगे और राशि स्तम्भ के बीचों-बीच इस तरीके से ये विशाल पत्थर है कि ऐसा लगता है जैसे पत्थर पहले से अंदर था और उसके आस पास मंदिर निर्माण हुआ हो।

क्या कहते हैं पुजारी:-

Shanidev temple chowari

मंदिर के पुजारी पंडित विवेक शर्मा (गोल्डी) बताते हैं कि ये शिला अपने आप मे शनि महाराज का आशीर्वाद है क्योंकि शनि महाराज की मूर्ति की पूजा नही की जाती शनि की शिला पूजा होती है चूंकि यंहा शिला की स्थापना नही की गई थी इसलिए शनि महाराज ने खुद ही इसे स्थापित कर दिया। और उनका कहना है कि भारत मे प्रसिद्ध शनि शिंगणापुर के बाद ये दूसरा मंदिर है जंहा शनिदेव का शिला पूजन होता है। पुजारी जी का कहना है कि जिस पहाड़ की चोटी से शिला इस मंदिर में स्थापित हुई है उस जगह व हर साल झंडा चढ़ाते हैं। वह झंडा आप ऊपर लहराते हुए देख सकते हैं।

अदभुत शनि शिला:-

इस शिला ने खुद को स्थापित कर के इतनी जगह छोड़ रखी है कि कोई भी भक्त मंदिर की फेरी लगा सके और इसमें बड़ी मुश्किल से 2 हाथ जगह बची है इसके बावजूद जितना भी मोटा आदमी हो इसमे से पार निकल जाता है। ये अपने आप मे एक अद्भुत रहस्य है।

गण्डमूल का इलाज:-

मंदिर के पुजारी बताते हैं कि इस पत्थर के नीचे भी छोटी सी जगह है ऐसी आस्था है कि इसके नीचे छोटे बच्चो को निकालने पर गण्डमूल ठीक होते हैं।
आस्था का प्रतीक:-

Pujari shani shila ke bare me btate huye

ये मंदिर चुवाड़ी के साथ साथ आसपास के इलाके में भी आस्था का प्रतीक बन चुका है। हर शनिवार को भक्त इस मंदिर में पँहुचते हैं। चुवाड़ी की सबसे प्रसिद्ध जगह में से एक है ये शनिदेव मंदिर। यंहा हर साल विशाल भंडारा भी अप्रैल माह में लगता है। भक्त शनिदेव की प्रतिमा में तेल व माह की दाल चढ़ाते है हजारों भक्तो की मनोकामना को भगवान शनि पूर्ण करते हैं।

पर्यटन में हो विकास:-

Kalam khadd near shanidev temple

ये जगह आस्था के साथ साथ पर्यटन में भी विकसित होना आवश्यक है। मंदिर के सामने कलकल बहती कलम खड्ड और चारों तरफ ऊंचे ऊंचे पहाड़ इसकी शोभा को कई गुणा बढ़ा देते हैं। चुवाड़ी के आसपास के लोग सुबह शाम इस जगह भ्रमण करने आते हैं। कोई भी मेहमान किसी के घर आये उसे इस सुंदर जगह पर जरूर लेकर आते हैं।

Front view of shanidev temple

ऐसी ही कई जगह है हिमाचल में जो पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण है आओ ऐसे स्थानों को प्रसिद्ध करें।
यदि जानकारी अच्छी लगी हो तो शेयर अवश्य करें।
जय शनिदेव

अगले अंक में आपको किसी अन्य जगह का भ्रमण करवाएंगे।
लेखक
आशीष बहल
चुवाड़ी जिला चम्बा हि प्र
Ph 9736296410
इसी तरह की जानकारी के लिए जुड़े रहें हमारी वेबसाइट से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *