ग़ज़ल /नवीन हलदूणवी

ग़ज़ल
नवीन हलदूणवी

अल़ुआ अल़दा अल़ी गेआ ऐ ,
बल़दा – बल़दा बल़ी गेआ ऐ ।

सरीक करा दे खूब तरक्की,
जल़दा-जल़दा जल़ी गेआ ऐ ।

पौंदपटाक्कैं मैंझर पाइयै,
ढाल़ू ढल़दा ढल़ी गेआ ऐ ।

समाजे दा कुण बेल्लीवारस ,
छल़ुआ छल़दा छल़ी गेआ ऐ ।

पाप्पी पीप्पण’नवीन’ नकम्मा,
पल़दा – पल़दा पल़ी गेआ ऐ ।।

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा,. हिमाचल।

अपणा आप सधेरा मित्तरा ,
दूआ भौंऐं ढेरा मित्तरा l

मने दी मौज़ मनाणे तांईं ,
दूए नीं पल़चेरा मित्तरा l

संझ ढली ऐ गेई जुआन्नी ,
दो घड़ियां दा फेरा मित्तरा l

धन-दौलत नीं कन्नैं जाणीं ,
भौंऐं मता कठेरा मित्तरा l

किंह्यां लंघणीं पाप-वतरनी ,
खूब दरेड्डा डेरा मित्तरा l

बेल्ला हत्थ “नवीन” नीं औंणा ,
कुण तेरा कुण मेरा मित्तरा ll

नवीन हलदूणवी
०९४१८८४६७७३
काव्य-कुंज जसूर -१७६२०१,
जिला कांगड़ा (हिमाचल)l

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *