इक पुराणी प्हाड़ी गज़ल
“ध्याड़ा धुप्पा दा”
***
सौ:हग्गें होई नै ला: बियाड़ा धुप्पा दा।
कुसकी मंगी लैणा भाड़ा धुप्पा दा।
**
लोक्कां दींयां धुप्पां जाई मत बचळोयें।
गुहाड़ अपणा गुआड़-पुछाड़ा धुप्पा दा।
**
बह्रदीया तौंदीया झल्लीयाँ जिन्हां सपूतां।
लिखी दे तिन्हां दे नांयें जाड़ा धुप्पा दा।
**
असाँ ही भेज्जे थे चुणी नैं बद्दळ गासले।
छड्डेया तिन्हां इ करी खुआड़ा धुप्पा दा।
**
ठै:हरा करदी सूई कार-क्रीन्देयाँ ऊपर।
मन ता ज़रा भी नी था माड़ा धुप्पा दा।
**
अपणी ईद दियाळी अपणी हुज्ज क्या कुसी।
भिह्यी वी पा:हंयां कुनकीं पुआड़ा धुप्पा दा।
**
सै:ह्यी गल्लां सै:ह्यी मच्चळड़ सै:ह्यी चाब्बां।
नौआँ हण कोई कम्म नुआड़ा धुप्पा दा।
**
न्हेरैं ही ढोआ करदे पत्थरां न्हेर बुपारी।
फ:स्सेया तिन्हां दे ढिड्डैं राड़ा धुप्पा दा।
**
खाणे जो ता ठुंग नी न लुंग भी जैह्रे दी।
तिन्हां जो मत पढ़ाएं प्हाड़ा धुप्पा दा।
**
घुळखा दे जीणेंय्यो माँ:हणु मुलखां दे।
पिह्या तिन्हां जो बगत कुराड़ा धुप्पा दा।
**
मा:हणु कुनी छोटा कुनी बड्डा करी छड्डेया।
पा:ह्या कुनी मोच्छा ‘नै फाड़ा धुप्पा दा।
**
सच्च:य्यो ढिड्ड पिट्ठी नै जिन्हां भाऊआं दे।
बज्जदा पिट्ठी तिन्हां नगाड़ा धुप्पा दा।
**
पह्यीयो खौ:दळ पार्टियां च अंदरो-अन्दरी।
कुस मूँह ‘न मारा करदे दाड़ा धुप्पा दा।
**
तेजकुमार सेठी। धर्मशाला।