🎪🎪 काव्य कोण 🎪🎪
नाचता रहा जिन्दगी भर तेरे इशारों पर,
कभी घर न मिला कभी राह न मिली।

सुरेश भारद्वाज निराश♨

🎪🎪काव्य कोण🎪🎪

मेरे अपने भी कुछ बदल से गये है,
मेरी सीरित नहीं सूरत देखते है।

सुरेश भारद्वाज निराश♨

💑💑 काव्य कोण 💑💑

मुहब्बत की बात करुं या तन्हाई की बात करुं,
सब कुछ तो उनके हाथ में है क्यूं जुदाई की बात करुं

सुरेश भारद्वाज निराश😡

💑💑 काव्य कोण 💑💑

चाहत एक धोखा है मत रह तू धोखे में,
आनी जानी दुनियां में चाहत भी आनी जानीहै।

सुरेश भारद्वाज निराश😡

Sent from BharatKaKhajana