ग़ज़ल

नवीन हलदूणवी

तल़ियै भटूरू खुआंदा फकीरा ,
दुनियां च मैंझर पुआंदा वतीरा।

रुकघ तरक्की नीं ओत्थू गलांदे,
दिन – रात जित्थू जगांदा व़ज़ीरा ।

मल़नीं गज़ूल़ी कजो कुसी कन्नैं,
प्यारे दा सबक सिखांदा कबीरा?

होणी जगे च कदीं बी नीं टल़दी ,
सीता के रोक्की लछमण लकीरा?

गिरधर गुपालैं किरपा जे कीत्ती ,
होई दिवान्नी जुआन्नीं च मीरा ।

धन्ने दी गांईं ठाकुर चरांदे ,
भगुआन मिलदे सुच्चिया ज़मीरा ।

कम्म ‘नवीन’ नीं करड़ा बी कोई ,
तोप्पण जौहरी पत्थरां च हीरा ।।

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा,. हिमाचल।