सावन
सावन आया हमें राखी का इन्तजार है।
सावन आया झर रहा मन्दित फुहार है।।
सावन आया रिमझिम सुरभित बयार है।
सावन आया झूला झूलने की बहार है।।
सावन आया तो पीहर की पुकार है।
सदा फलता फूलता एक राखी का प्यार है।.
Dr .meena kaushal
U. P. Gonda
Sent from BharatKaKhajana