.देव भूमी में भी नीर्भया कांड ….
कानून का ना डर
ना समाज से डर

हो रहा है देव भूमि में
आज भी नीर्भया जेसे कांड

माँ बाप को किया है शर्म सार
देव भूमि भी हुवा शर्म सार

क्या सजा होनी चाहिये
आज इन दरिंदों को

दो दिन हम बहुत रोष करते है
कल फ़िर इन के माँ बहन पर दया कर छोड़ देते है

कानून के रखवाले भी आज
इनके बचाव में कहीं खड़े होगे

सजा तो हम कहते है
ऐसा दो जीवन भर इन सब को याद आये

पर हमारा कानून ऐसा है
सालों साल लग जाता है दोषी के लिये

और जीवित रहते है
आज भी ऐसे दरिंदे बेखौफ निडर हो कर

और होता है फ़िर से देश में हर रोज़
नीर्भया जेसे माँ बहनों पर अत्याचार

केसे रुक सकता है ऐसे दरिंदों के करनामे
जब देश का सिस्टम ही कमजोर है

राम भगत