कविता/गोपाल शर्मा

🛎🛎सुण गप्प-गड़ाका लोकां दा🛎🛎
मारा-मारी पेइयो यै,
सबर नी कुसी जो रेइयो यै।
छेलू देई ने छुटणा मितरा,
कम नी रिया रोटां दा ।

मतलबी मामा बोला दा,
झूठो-झूठ ही तोला दा ।
सुपने बेचणा पौणे मितरा,
टैम आई गिया बोटां दा ।

गुणी-गणैडे फेल न सारे,
चवल़ां दे हन बारे नयारे।
अपणे कम्मे कड तू मितरा,
राग नी लाणां खोटां दा ।

मातड़ रज्जी ने सौआ दे,
करोड़ां अल़े भतोआ दे ।
सुख-सान्ति रै भाई मितरा,
असां क्या लैणा नोटां दा ।

कच्चा कम्म ता कच्चाई हुंदा,
मत नेहरे तू पत्थर ढोंदा।
साहूकार ता मुक्के मितरा,
मुल्ल नी रिया परनोटां दा ।

अपणे खादेयां भुक्ख यै चुकणी।
बाजी कीतेयां गल्ल नी मुकणी ।
सनेयांअ बणज नी हुंदा मितरा,
मत रोंदा रोण तरोटां दा।

तू मितरा क्या तोपा दा,
सुण गप्प-गड़ाका लोकां दा।

गोपाल शर्मा
जय मार्कीट ,काँगड़ा।
हि.प्र.।

Sent from BharatKaKhajana

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *