– लखारी

कुस तियें गीत रेंहदा लिखदा लखारिया,
नज़रा उप्पर चुक्की कैंहनी दिखदा लखारिया।

नी नौ मण तेल होणा नी राधा नचणा,
लोकां देयां सुणी तान्या नी सिखदा लखारिया।

सोची सोची मग़ज़ तेरा खाली होई गेया,
कलमा बगैर पल्लैं किछनी टिकदा लखारिया।

लिखि लिखि कताबां तूं सैल्फा भरी दित्तियां,
नी बरका तेरा इक वीयै बिकदा लखारिया।

टब्बरे नी दाल़ रोटी रोज़ बोलै लाड़ी तिज्जो,
लब्बड़ां हेठ जीह्बा कजो जिकदा लखारिया।

अपणा अपणा राग अज्ज हर कोई गाअदा,
बिद्वानां कनै कैंह नी तूं मिकदा लखारिया।

हाखीं कजो भरदा तूं रोंदा कैस तांई,
निराश कैंह नी जख्मा तूं सिकदा लखारिया।

सुरेश भारद्वाज निराश♨
ए- 58 धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पी.ओ.दाड़ी ….धर्मशाला 176057
मो० 9418823654