गल़सोहे

बणदी गल्ल बनाणां चाहिदी पौणां नीं देणां चाहिदा खोट
होए हवा जिस पास्सें चलियो तिस पास्सें पिट्ठ करि देणीं सोत ।।

हिते दी गल्ल गलाणीं नीं तित्थू जेहड़ा माहणूं होए अबोध
नक्क् कटे जो शीशा दस्सा दिक्खी तिसजो औन्दा करोध।।

तिसदा दुसमण करिऋ क्या सकदा? जे जाणें जतन उपाय गुणीं
ततिया रेत्ता पैर नीं जल़दे जिन्नी पाईयो हो पैरें पणींः ।।

रचयिता
विजयी भरत दीक्षित सुजानपुर टीहरा हि.प्र. 9625141903

पंडित अनिल शर्मा जी की रचनायें

दर्द को कैसे सिया होगा/राम भगत नेगी