पहाड़ी गीत/नवीन हलदूणवी

“लुक्कण तां डरपोक” गीत

नवीन हलदूणवी

देस तरक्की जो कुण पुच्छै
सोत्तड़ भाइयो लोक ?
काछुए लेक्खा मुण्ड लुकाई
लुक्कण तां डरपोक ll

भोल़े-भकल़े साध वचारे
भाइयो धक्के खान l
मौज़ मनांदे प्हौंचा ब्हाल़े
घुटुआं जफ्फियां पान l
मारमुकारी भाइयो बेट्ठै
दंगेई गल़दूत्त l
पता नीं काल्हू सिकरदपैरैं
वरती जाणा कोप ??

बड़े बड्डे भरमल्ल कैसकी
इत्थू करन रमान ?
के करने भलुआन छोकरे
जेकर मंग्गियै खान ?
चौड़ी छात्ती लुक्क लुकाहड़ा
कजो खेल्लदी रोज ?
वेफैदे पड़सद्दे छड्डी
हस्सण भाइयो लोक ll

“नवीन” चबक्खैं खंब्बल़खच्चा
गिद्दड़ दिनैं रड़ान l
वेकरतूत्ते घोल़ पुआइयै
अप्पू गीत्तां गान l
छाल़ां मारै पाप – वतरनी
किंह्यां लंघगा पूर ?
भगत वचारे डुब्बा करदे
तरदा भाइयो फोक ll

देस तरक्की जो कुण पुच्छै
सोत्तड़ भाइयो लोक ?
काछुए लेक्खा मुण्ड लुकाई
लुक्कण तां डरपोक ll

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा, हिमाचल l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *