उतरें सिर कदी नी सौणा

दिनें सुत्याँ कितणा क सौणा
राती निंद्रा टैमे दिया औणा

सारी रात मै बखियाँ बदलां
लग्गै मंजोलुए ते हेठ ऐ पौणा

रुख बूटा नज़र नीं औंदा
एडिया धुप्पा कुथु बसौणा

मंजोल़ू सारा पेया लमकी
कदूं -तिक मैं कसगा दौणा।

ठण्डा मिट्ठा सजरा पाणी
चल चलिये छरूड़ुएं नौह्णा

घुरड़ियाँ मारी सौ$ मजे ने
उत्तरैं सिर कदि नी सौणा

लाड़िया दे तांँ कन बजदे
लोक गलांदे मिंजो टौणा

लम्मा चौड़ायै रिंग मास्टर्
दिक्खा जोकर बणयां बौणा

स्वाद लैयी जे धाम ए खाणी
पैह्लिया पैंठी कदि नी वौणा

आल़ी बिच्चा लाश जे कढणी
बड्डा लम्मा रस्सायै पौणा

लगयो नराते मत्था टेकिये
चल चलिये माता भौणा

दिखणे जो तू छैल़ बड़ा यै
कर्मां ते तू बड़ा डरौणा।

खूब सारी जे करगे सेबा
बज्जी जांदा ढीठ परौणा।

बाल पणे च बयाह नीं करना
निराश नी तौल़ा होंदा गौणा।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पी ओ दाड़ी धर्मशाला हि प्र
176057
मो०9418823654