. नवीन हलदूणवी

खाणा–लाणा टबरे जो ,
कुण पुच्छा दा जबरे जो?

दुनियां बड़ी कपत्ती ऐ ,
सबर कुथू वेसबरे जो ?

पाणी कोई प्यांदा नीं ,
भुक्खे–प्यास्से जबरे जो।

दूए हत्थ चवन्नीं नीं ,
ठेक्के अपणे टबरे जो ।

करनी खूब तरक्की जे ,
मत्था टेक्का जबरे जो ।

होई मौज़ ‘नवीने’ दी ,
हक्कां पाए लबरे जो ।

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा, हिमाचल।

जगती जोत है माँ ज्वाला जानिए पूरी कथा


आज नवरात्रो में माता रानी के गुणगान में ऑनलाइन पत्रिका भारत का खजाना में पढ़िए माता ज्वाला जी की ये अदभुत कथा। जय माता दी।🙏🏻

नवीन हलदूणवी

शिमलैं वस्सदे कवि सुनक्खे ,
सुरग नज़ारे अक्खे – बक्खे l

हौआ झुल्लै ठंडी मिट्ठी ,
के करने हन इत्थू पक्खे ?

कुदरत राणी रूप – खज़ान्नां ,
भाग्गां ब्हाल़ा माह्णू चक्खे l

देस्सी – प्यूंदी रंगवरंगे ,
पैदल घुम्मण कक्खे – लक्खे l

शुकर करो “नवीन” इन्हां दा ,
रीत – रुआज सम्हाल़ी रक्खे l

नवीन हलदूणवी
09418846773