म्हारे जमाने री करंसी/नंद किशोर परिमल

म्हारे जमाने री करंसी
औआ मुन्नुओं पुराणे जमाने रिया करंसिआ रे करिश्मे सुणांदा।
साढ़े टैमें धेला, पैसा (डव्वल़), था चल्लदा।
द्हानी, आना,दुआनी, पौल़ी, न्नैं अठ्ठनी (पौल़िया) रा था सिक्का चलदा।
रुप्पयै रा नोट कट्ट वद्द दुस्सणा, पंजां रा वी नोट था चलदा।
दस्सां रा नोट रास थी भारी, पंजांह रा था होंदा हाथी कन्नां।
सौए रा नोट कदी कदी था दुस्सदा, एह करंसी अज दुर्लभ होई ऐई।
अज्ज जमांनां हजार, दो हजारां पुच्छै, औआ तिस जमानें रा फर्क वी दस्सां।
इक धेले न्नैं मुंगफल़ी, रयोड़ी बथेरी, जेबां भरी भरी थे पांदे।
इक पैसे नैं सेर भर दुध था औंदा, द्हानियां नैं सेर भरी खंड थी मिलदी।
पौल़िया रा सेर (किलो) देसी घ्यू था बिकदा, अठ्ठनियां री लोड़ थी घटबध्द पौंदी।
रुप्पया इक असां बजारें लेई नीं थे जांदे, छोटेयां सिक्केयां न्नैं कम्म था चलदा।
अज्जे रे नयांणे जो सौए रा नोट देया तां, नक्क भौंह सैह् मरोड़ी न्नैं दिक्खदा।
पंजां सौआं तैं घट्ट कम्म नीं चलदा, हत्थ तिसियो वी अज्ज सैह् न पांदा।
कुथू गैऐ सैह् धिआड़े परिमल, सोची सोची एह रोऐ बैही न्नैं पिछवाड़े।
नंद किशोर परिमल, से. नि. प्रधानाचार्य
गांव व डा. गुलेर, तह. देहरा (कांगड़ा) हि. प्र.
पिन 176033, संपर्क 9418187358

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *