पहाड़ी कविताएं/नवीन हलदूणवी

नवीन हलदूणवी 
मुन्नू खूब गराड़ी कुसजो के दसणा ,

दिंदे लोक लताड़ी कुसजो के दसणा ?
दंगेई  –  गल़दूत्त  गणैड्डे  भूत्तड़  बी ,

फसलां देन जुआड़ी कुसजो के दसणा ?
तांईं   गरीब   ग्रांईं   भुक्खे   घुम्मा  दे ,

किंह्यां लग्गग ध्याड़ी कुसजो के दसणा ?
  सुक्खण  पूरी होण लगी  ऐ बोल्ला  दे ,

मंग्गण पौंद भनाड़ी कुसजो के दसणा ?
बणी  –  ठणी नैं रोज नशेड़ी भुड़का दे ,

ढांगू – जोत – चुआड़ी कुसजो के दसणा ?
“नवीन”बणियैं  बेल्लीबारस देस्से दा ,

लैणी हाक्ख गुहाड़ी कुसजो के दसणा ?
        नवीन हलदूणवी 

    09418846773

काव्य-कुंज जसूर-176201,

जिला कांगड़ा ,   हिमाचल l

गीत

नवीन हलदूणवी

अपणे लक्क सधेरा दे ,
गुरुआं जो पल़चेरा दे ।

हाल बुरा ऐ सड़का दा,
काल़ख ठेक्के फेरा दे ।

लाट्टू लोई लांदा नीं ,
कुक्कड़ रोज वज़ेरा दे ।

मौज़ बड़ी ऐ बड़के दी ,
हाकम कलमां फेरा दे ।

मुल्ल पवै नीं भगती दा ,
बूस्सर अक्ख तरेरा दे ।

खबर मसालेदार खरी ,
लुच्चे जो भणघेरा दे ।

असली थोब्बड़ सुक्का दा ,
नकली जो तुलकेरा दे ।

अज्ज “नवीन” भुलाईत्ता ,
भड़ुए जो फणसेरा दे ।

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा, हिमाचल।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *