जीने की तमन्ना

कच्ची दीवारें भी कभी रेत में बनाया करिये।
हर घड़ी दुख के पहाड़े नहीं पढ़ाया करिये।।

सुर्ख रुख़सार है,नूर है महज धोखा।
फ़कत इसी के रंगत पर न जाया करिये।।

दुनिया दोरंगी माहिर है दग़ा करने में।
दिल मिले न मिले, हाथ मिलाया करिये।।

ग़मजदा करके ,हँसेंगे ग़म देने वाले।
दास्ताँ दर्द-ए-दिल की,न सुनाया करिये।।

बेरुखी दिल में, रखती है फ़रेबी दुनिया।
दिल सरेआम,तमाशा न बनाया करिये।।

सिर उठाकर जीने की,तमन्ना रखिये।
हर हाल में अनिल मुस्कुराया करिये।।

पं अनिल

मौलिक,स्वरचित,अप्रकाशित

अहमदनगर महाराष्ट्र

8968361211