रंगों की होली/राम भगत नेगी

रंगो की होली


काला पिला हरा नीला !
तन मन सब हो जाये गीला !

वसंत ऋतु अब आई है !
रंगो को साथ लाई है !

बच्चे बुढ़े और जवान !
खुशियों में झूमे सब इंसान !

कोई हाथों से है रंग लगाता !
कोई पिचकारी का करे इस्तमाल !

रंगो के नशे में सभी चूर है !
आज इस त्यौहार में अब कोई ना मजबूर है !

भेद भाव को सबने छोड़ा है !
कोई भी आज बिना रंगो का पड़ा है !

मोटर गाड़ी और स्कूटर !
और ना बचा है कोई दुकान का शटर !

रंगो से सब लाल हुवे है !
ऐसा आज कमाल हुवा है !

प्यार के रंगो में सब आज रंग पड़े है !
दुख और सुख को आज सब भूल पड़े है !

विक्की अंजू मंजू और प्रिया
सबने मुझे रंगों से रंग दिया

ये है वसंत का त्यौहार !
जो आये वर्ष में एक बार !

राम भगत.किन्नौर


सब को होली मुबारक ,,,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *