होली ब्यंग/सुरेश भारद्वाज निराश

होली ब्यंग

होल़ियादी सबजो बधाई मिलीनै होल़ी मनांदा रैह
दोस्त दुस्मण सारे अपणे सबनां गल़े लगांदा रैह।

सुणा करदा जे नीं कोई अप्पुं जो सुणादा रैह
नेहर गर्दी बथेरी पेहियो मजे ने तू बी खांदा रैह।

पड़ोसी कैंह खुस हण सारे असां क्या माह मूठयो
मत होणा दे कम कुस्सीदा बिच अड़ंगा लांदा रेह।

मंदर मसींता जाई क्या करणा रब कुथुऐं पुच्छादा
मोआ गम भुलाणे तांई शरावे दे आह्तें जांदा रैह।

कुन्नी सहाड़ा हाल पुच्छया जींदे हण कि मरी गेयो
तू बी हुण बदले लेई लै लोकांजो खूब सतांदा रैह।

मंगते रोज घंटी मारण असां जिह्यायै लंगर लाया
कजो दैणी मुट्ठ अट्टे दी झिड़कां देई नसांदा रैह।

डुबी गेयी बिरास्त सारी खरा होया स्यापा मुक्का
मंगी मंगी तू बी मित्रा हुणअधिया रोज चढ़ांदा रैह।

संस्कारां दी गल करादे सारे चोर उच्चक्के अज
कया लैणा तू संस्कारां ते अपणी मौज मनांदा रैह।

भुखे हण जमानें जेह्ड़े तिन्नायो असां क्या करिये
कमाण-खाण स्हांजो क्या तू हल्बा पूड़ी खांदा रैह।

गुज़ारा अजकल मुस्कलयै सबनी पासैं पंगा इ पंगा
नौन बैज हुण बड़ा मंहगा तू डौंके मारी खांदा रैह।

पल्लैं तेरें बेशक किछ नी जंदरे लाई रखा कर
बस्तियां हुण भूत बी रैंह्दे चोरां दी जै बुलांदा रैह।

बड़ियां ठपीसां बाल़े अजकल कवि होईगै मित्रा
छंद- मात्रां कैत पाणियां तू सिद्धे शे’र बणांदा रैह।

बड्यां दी बड्डेइ जाणन कजो खपांदा सिर अपणा
उच्चे उच्चे महल बणा मनै मनै तू टांह्दा रैह।

टुटी गेया सैह ठप्परु तेरा तेरे ते कदि नी बणना
पाणा दे लोकां जो लैंटल तू सोचां बिच छांदा रैह।

बगैर पुच्छैं गेया ब्योही ग्रेजी बोलदी सैह आयी घरैं
अम्मा बापू बौड़ी चड़ाइते हेठ तू गिद्दा पुआंदा रैह।

कजो आये इसा जिंदड़िया दस तिजो मिलया क्या
ठौकर बी तां रिया नी अपणा बखें बखें जांदा रैह।

मतियां सोचां मते पुआड़े मता इयै घाचमचोल़
किछ नीं पौणा तेरे पल्लैं तू सुत्याइ भल़सांदा रैह।

लोकां दियांनी साफ नीतां तू अपणी साफ रखियो
कुछ तां सिक्ख लोकां ते जींदेयां कफण पांदा रैह।

सरकार गलादी गरीबां तांई असां बडे कम करिते
निराश तूतां बीपीएल बिच अपणा नां लखांदा रैह।

सुरेश भारद्वाज निराश♨
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पीओ दाड़ी (धर्मशाला) हिप्र
176057
मो० 9418823654

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *