बड्डेयां री गल्ल

बड्डेयां री गलाइयो गल्ल हुंदी सच्च लोको।
गठ्ठी बन्नी रखणी मेरी एह तुसां गल्ल लोको।
आंवल़े रा खाएया स्वाद बाह्दे च औंदा लोको।
पैह्लैं बुरी लग्गै बड्डेयां री गलाइयो गल्ल लोको।
बड़ा बड्डा चढ़ाकू रुक्खे चढ़ी न्नैं मरै लोको।
बड़ा बड्डा तराकू नदिया च तरी न्नैं मरै लोको।
रीस करनी जल़ब नीं कुसी रा करना लोको।
अग्गे बध्धणे ताईं रात दिन मेहनत करा लोको।
झूठे री नीं हुंदी कोई वी पत्त लोको।
बुज़ुर्गां री गलाइयो एह गल्ल सच्च लोको ।
इक सच्च बोली किछ नीं याद रक्खणां पौंदा।
सच्च बोलणे आल़ा सदा सुखे री निंदरा सौंदा।
बुज़ुर्गां रा गलाया न्नैं आंवल़े रा खाणा, बाॅदे च आद औए एह गल्ल सोल़ह् आनें सच्च लोको ।
गठ्ठी बन्नी रखा मेरी सौ टके री एह गल्ल लोको।
बेला रैंह्दे मन्नीं लेया बुजुर्गां री गलाइयो गल्ल लोको।
परिमल बोलै मत ठगोआ कदी झूठ्ठीयां गल्लां च लोको।
नंद किशोर परिमल, से. नि. प्रधानाचार्य
सत्कीर्ति निकेतन, गुलेर (कांगड़ा) हि. प्र.
. पिन. 176033 संपर्क. 9418187358