नवीन हलदूणवी की कविताएं

नवीन हलदूणवी
खाणा–लाणा टबरे जो ,

कुण पुच्छा दा जबरे जो?
दुनियां बड़ी कपत्ती ऐ ,

सबर कुथू वेसबरे जो ?
पाणी कोई प्यांदा नीं ,

भुक्खे–प्यास्से जबरे जो।
दूए हत्थ चवन्नीं नीं ,

ठेक्के ;अपणे टबरे जो ।
करनी खूब तरक्की जे ,

मत्था टेक्का जबरे जो ।
होई मौज़ नवीने’ &दी ,

हक्कां पाए ;लबरे जो ।
नवीन हलदूणवी

09418846773

काव्य-कुंज जसूर-176201,

जिला कांगड़ा,   हिमाचल।
“गीत”

                        

                  नवीन हलदूणवी
                       09418846773
छन्दे -मिन्नतां छून्नीं  – गोड्डे ,

हुण नीं खेल्ला  कौड्डी-डोड्डै l
पढ़ना     पौणे    सुच्चे    पोत्थू ,

साग्गे   नैं   जे    खाणे  ढोड्डे  l
मिलियै  करनीं  देस – तरक्की ,

कम्मैं  औंणे  रोड्डे  – भोड्डे  l
ठंड   लगी   तां   बचणे   तांईं ,

खिंद-खंदोलु ओड्डण ओड्डे l
दंद   “नवीनां”   भुरन  लगी  पे ,

पीण   छडी   दे    ठंडे   सोड्डे l
                      नवीन हलदूणवी 

काव्य-कुंज जसूर-176201,

जिला कांगड़ा ,   हिमाचल l
गीत
            नवीन हलदूणवी
पेई   जाणी   काल़जुएं   ठंड   मित्तरो ,

छड्डा  भाइयो  करना  घमंड  मित्तरो।
हद्दां  तिक्क  वैरियां  बखाद   पाईत्ता ,

करी देणी दुसमणां दी झंड मित्तरो।
सुन्ने दी ऐ चिड़िया जमान्ना जाणदा,

भ्रष्टाचारी   तोड़ना   परंड   मित्तरो।
थ्होंदा नीं ऐं किच्छ बी कौड़ा बोलियै,

धरतिया च मिट्ठी वाणी बंड मित्तरो।
होण लगी देस्से दी तरक्की बोलदे,

तिद्दैं  मुंह्में  खीर  कनैं  खंड  मित्तरो।
माह्णुएं दी मिल्लियै सिओआ करी लै ,

सांभी  लै  ‘नवीन’  आई  पंड  मित्तरो।
             नवीन हलदूणवी

09418846773

काव्य-कुंज जसूर-176201,

जिला कांगड़ा  ,   हिमाचल ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *