झूठे दी अज्ज/नवीन हलदूणवी

नवीन हलदूणवी

झूठे दी अज्ज जै–जैकार ,
सच्चे दा नीं कोई वचार ।

बुढ़क बड़ी जां डैंजकडींजा,
घैंचोघैंची घुल्ल़न गुआर ।

वेसबरे जे सबर कुथू ऐ ,
चौंपास्सैं पुट्ठड़ा परचार ।

काल़मिआल़े करी घुटाल़े ,
दमाग्गे अन्दर भूत सुआर ।

वेगुरपीरे लत्तां खिंज्जण ,
के करगी मित्तरो सरकार?

भारत माता बोल्ला करदी ,
काल्हू होणा ‘नवीन’ सुधार ?

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर- 176201,
जिला कांगड़ा ,हिमाचल ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *