लोहड़ी कविता/नवीन शर्मा

“लोह्ड़ी” जिंह्याँ चलदी चाल मकोड़ी। हौळें-हौळें आई लोह्ड़ी।। ठंडू ठुड्ड भनाई लेया। हड्डळुआँ गर्माई लोह्ड़ी।। सुभ कम्माँ दा वेल्ला आया। … Continue reading लोहड़ी कविता/नवीन शर्मा