लोहड़ी कविता/नवीन शर्मा

“लोह्ड़ी” जिंह्याँ चलदी चाल मकोड़ी। हौळें-हौळें आई लोह्ड़ी।। ठंडू ठुड्ड भनाई लेया। हड्डळुआँ गर्माई लोह्ड़ी।। सुभ कम्माँ दा वेल्ला आया। मुंडन ताँ कुड़माई लोह्ड़ी।। दुल्ला भट्ठी अॉळा पुच्छै। थी थोड़ी सरमाई लोह्ड़ी।। खाण रयोड़ी मुंगफली या। तिलचौळी मनभाई लोह्ड़ी।। वॉळी भाँबळ नच्च कुदैह्ड़ा। ढोल्ली ढोल बजाई लोह्ड़ी।। दाख छुआरे गोळे गरिया। दा गळ हार पुआई … Continue reading लोहड़ी कविता/नवीन शर्मा