पहाड़ी ग़ज़ल/डॉ पीयूष गुलेरी

ग़ज़ल
प॓धाड़ी
*****
डाॅ पीयूष गुलेरी
औआ-दी-नीं हत्थैं नाड़ी ।
काह्लू पूरी होंग प॔धाड़ी ।।
*
खाई -गैया चोबर अंबां ।
मैं -तां मोआ राड़ी -राड़ी ।।
*
रूप, छलैप्पा, पुच्छा कःरदा।
दिक्खा-नां-कैंह् हक्खीं फाड़ी।।
*
टप्परुऐं अग लाई हस्से ।
मारी-नैं सैह् जोरैं चाड़ी ।।
*
असां परौल़ी लाया धरना ।
हक्खीं मिट्टी, मारी ताड़ी ।।
*
सैह् – पल काह्लू हटी_नैं औंग्गा।
खिड़-खिड़ थे हस्से जधियाड़ी।।
*
लग्गै खेत्तर खिल्ला रैह्णा ।
हिलका करदी भाउआ! जाड़ी।।
*
गेया जेह्ड़ा भागसुऐं – था ।
सैह् मिःल्लेया जाई -नैं ‘ दाड़ी’।।
*
रोआ कःरदा पिछलेयां निम्बळा।
मारी पैरां आप कुहाड़ी ।।
*
अप्पूं लाज बचाणा पौणी।
कान्हैं नैंईं बधाणी साड़ी ।।
*
रस, छंदां -नैं गचमंड होई ।
कुःण बोल्लै नीं भाषा प्हाड़ी।।
*
छंदेयां -मिणतां करदेयां औणा।
तिन्नीं , जिन्नीं गल्ल बगाड़ी ।।
*
बोल ‘पीयूषा’ छैलो -बाह्बो।
लाड़ी, होंदी अपणी लाड़ी ।।
*
अपर्णा-श्री हाऊसिंग कालोनी
चील गाड़ी धर्मशाला (हि प्र )
176215
मो 94180 17660
दूर भाष 01892 -226224

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *