उम्मीद का दीया”

उम्मीद का इक दीया,जलाये हुवे रखना।
ख़ुशियों के गीत लब पे, सजाये हुवे रखना।।

तूफ़ान ज़िंदगी में आयेंगें, क्या डरना।
पर,पाँव तुफ़ानों में, जमाये हुवे रखना।।

कुछ दर्द तो मिलेंगे, है रिवाज़ जहाँ का।
उस दर्द में भी खुशियाँ, मिलाये हुवे रखना।।

कुछ टीश गर रहेगी, जो दिल में हमनवाँ।
आगोश में पलक के, छुपाये हुवे रखना।।

दुनिया गिरायेगी ही, ये फन है मेरे यार।
खुद की नज़र में खुद को, उठाये हुवे रखना।।

तक़दीर के तमाशे निराले , हैं हमसफ़र।
तक़दीर को मेहरबाँ, बनाये हुवे रखना।।

पं अनिल

अहमदनगर महाराष्ट्र

8968361211