ग़ज़ल ( हास- ब्यंग )

लिखया मेरे कर्मांदा सैह बी तां धोखा निकलया

विह्स्की मंगीथी पीणेजो पाणी कोसा निकल़या।

रैस्टोरैंटे जाई करी मैं पैक करबाया था पिज्जा

पैकट खोलेया आई घरैं मैं बिच डोसा निकल़या।

लिया था मैं मैहंगा कपड़ा सिआई बी दित्ती खरी

इक बरी बस पैंट धोत्ती पैंटारा पोछा निकल़या।

पिंड केई रुड़िगै थे भाऊ जाह्लू फटेया बद्दल

इतणा पाणी आया अंबरैं लग्गै झरोखा निकल़या।

आण गोल़ा इतणा पेयाजे अप्रैलें कोटी लुआइती

सोचाँ शैद निंबल़ होंगा फि: बदलोखा निकल़या।

भेज्जीथी मैं सैह बरियाली जाई रेई भरमाड़ी कैंह

हुण भरोसे ते बी मेरा यारो भरोसा निकल़या।

दाग मेरिया खाडियाथा समझी सरारत तिसादी मैं

मुंह गेया फि:सुज्जी मेरा रंगड़े दा बोसा निकल़या।

दादू बोलै संस्कार मेरा चनणे कन्नै -इ करनेओ

दसांजाहरां गोल़ा लिया सिंबल़ेरा मोछा निकल़या।

लाड़िया ने लड़ी पेया मैं लत मेरी भन्नी तिसा

घरे छड्डी चली पेया में था गर्म जोसा निकल़या।

बापुए जो मता गलाया रिस्ता करेयाँ दिखी सुणी

झूंड चुक्कया इक्क लाटू बड़ा-इ लोचा निकल़या।

चोर बड़या मेरे घरैं सैह पेड़ुए विच मैं होड़ी त्ता

बीड़ी लैणा गिया दुकांना सैह परोखा निकल़या।

फंड चड़ाई पुल़सा मिंजो घरें अपणें तू रैंहदा कैंह

घर लोकां दे कुनी चलाणे तू-ऐं नोखा निकल़या।

जरेब सट्टी देई पटुआरिएं सरीकां कंध ढाईत्ती

पैसे खादे मेरे तिन्नी सरीकां दा रोसा निकल़या।

उच्ची थी तिसदी डुआरी अंबरैं छींडा पांदा रेह्या

गलाण सारे बड़ा खरा दिलेदा होछा निकल़या।

घरें मेरें छाप्पा पेया मजा बड़ा-इ आया भऊआ!

खिंद खंदोलू फाड़ीते कनै फटया गोछा निकल़या।

सरकार वोलै टैक्स तुसांरे माफ दैणे असां करी

गूठ लह्केरी निराश दसया माफी शोशा निकल़या।

सुरेश भारद्वाज निराश

धौलाधार कलोनी, लोअर बड़ोल

पी.ओ दाड़ी, धर्मशाला हिप्र

176057

9805385225

Suniye ye pahadi gana