पहाड़ी ग़ज़ल/डॉ पीयूष गुलेरी

ग़ज़ल ** कुथू-ऐ** ¤¤डाॅ पीयूष गुलेरी जेह्ड़ा अंदर खात्ते लोह्लै । देह्देह्या हण ग्यान कुथू-ऐ ।। ■ बिना स्वार्थैं स्योआ कःरगा । देह्देह्या परधान कुथू- ऐ ।। ■ तोत्ता पकड़ी पिंजरैं पाया । दस्सा , तिसदी जान कुथू-ऐ ।। ■ भौंआं मेरैं अंदर बैट्ठा । आपर सैह् भगवान कुथू- ऐ ।। ■ दूए खातर करै … Continue reading पहाड़ी ग़ज़ल/डॉ पीयूष गुलेरी