पहाड़ी ग़ज़ल/डॉ पीयूष गुलेरी

ग़ज़ल
** कुथू-ऐ**
¤¤डाॅ पीयूष गुलेरी
जेह्ड़ा अंदर खात्ते लोह्लै ।
देह्देह्या हण ग्यान कुथू-ऐ ।।

बिना स्वार्थैं स्योआ कःरगा ।
देह्देह्या परधान कुथू- ऐ ।।

तोत्ता पकड़ी पिंजरैं पाया ।
दस्सा , तिसदी जान कुथू-ऐ ।।

भौंआं मेरैं अंदर बैट्ठा ।
आपर सैह् भगवान कुथू- ऐ ।।

दूए खातर करै घुल़ाट्टी ।
देह्देह्या पह्लोआण कुथू -ऐ।।

छैल़ करी – नैं तने -जो ढक्कै।
देह्देह्या हण लाण कुथू – ऐ ।।

खौःरू ,सीरा , बबरू , फफरू ।
मिःलदा ऐसा खाण कुथू -ऐ ।।

पंदां , बंदरी ,खिंह्द , खंदोह्लू ।
दुसदा भला बछाण कुथू -ऐ ।।

मिःल्लण झांबड़ी पाई लोक्की।
हण देह्यी पणछाण कुथू -ऐ ।।

सच्चे जो सच बोल्ली सक्कै।
देह्देह्या इनसान कुथू – ऐ।।

खरियांइयां दे झंड्डे झोल्लै ।
करदा हुण गुण गान कुथू – ऐ।।

नःरढ़ भथेरे दुनिया अंदर ।
मिःल्लदा अपणा हाण कुथू -ऐ।।

ठौकरे तोप्पां – नां ” पीयूषा” ।
आपर तेरा ध्यान कुथू – ऐ ।।

अपर्णा-श्री,हाऊसिंग काॅलोनी,
चीलगाड़ी धर्मशाला -176215
हिमाचल-प्रदेश
मो 94180-17660
दू▪भा▪01892-226224

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *