बाड़ खेतां जो खाणा लग्गे/सुरेश भारद्वाज निराश

व्यंग…… ग़ज़ल
बाड़ खेतां जो खाणा लग्गे
बुड्ढे नंगे नाह्णा लग्गे।

डंगरे हसणा गाणा लग्गे
सर्प बीण बजाणा लग्गे।

गुरु चेलियां फसाणा लग्गे
छोरु गुरुआं ढिसक्याणा लग्गे।

मूर्ख रमैण सुणाणा लग्गे
बच्चे मापेयां समझाणा लग्गे।

वचारी अम्मा भिक्कड़ भन्नै
पुतर सराध छडाणा लग्गे।

सोवत देई सखाल़ी मापेयाँ
अंवरैं छींडा पाणा लग्गे

पी करी रोज़ शराबां लोक
अपणे घरे गुआणा लग्गे।

बुजुर्गां दा टपरु खरा नी लगदा
रल़ी मिल़ीनै टाहणा लग्गे।

खेती करणी शान घटदी
बैंदा हुण मुकाणा लग्गे।

किह्ले मरण घरें मापे
लाड़िया खीसें पाणा लग्गे।

मते पैसे निंदर हयनी
गोल़ी देइनै सुआणा लग्गे।

नीं था नौंह्ंदा कदि वचारा
लोहड़िया जो नुहाणा लग्गे।

मुंडु कुड़ी होईगै राज़ी
घरे -दे व्याह सधाणा लग्गे

जे – कदि अप्पु आया ब्योही
बजिए धाम खुआणा लग्गे।

नान – बैज हुण दानें पुन्नै
पंडत ग्रह नसाणा लग्गे।

धर्में कर्में लग्यो जेहड़े
मोटा गाल़ा खाणा लग्गे।

देए चंदरे लोक होईगै
कुड़ियाँ कोखा गुआणा लग्गे।

मेरियां कबतां काबू कितियां
अपणें नां छपाणा लग्गे।

राज पाठ जिन्ना हवालें
कोठियांँ हन बणाणा लग्गे।

अप्पु थी तुसां भड़काई
हुण कजो बुझाणा लग्गे।

सोची समझी वोट दिनयो
लोकां कजो मरुआणा लग्गे।

बड़ी स्कीमा गरीवां तांई
भुक्खयां रोज़ सुआणा लग्गे।

अस्पताल़ां – च कोई नी पुछदा
मरीजां भुइयां लिटाणा लग्गे।

अपणा कम्म कराणे तांई
चढतर खूव चढ़ाणा लग्गे।

चाकरी बुरी बापुए दी
ठाणें जाई गलाणा लग्गे।

नी – खोंदी हुण बाजी दंदां
मीट – भत्त हन खाणा लग्गे।

अपणी लाड़ी छैल़ ऐ बेशक
बगानियां पट्टू पाणा लग्गे।

रोटी किह्यां करी पकाणी
निराश अम्मायो सिखाणा लग्गे।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी, लोअर बड़ोल
पी.ओ.दाड़ी, धर्मशाला हि.प्र.
पिन 176057
Mob. 9805385225

Sent from my Android phone with mail.com Mail. Please excuse my brevity.

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *