नोट्टां नैं म्हौल बगाड़ीत्ता/नवीन हलदूणवी

गीत/ग़ज़ल

                  नवीन हलदूणवी
नोट्टां नैं म्हौल बगाड़ीत्ता ,

धरतू   दा   पारा    चाढ़ीत्ता। 
ठुणियें  हे  मौज़ां  लुट्टा  दे ,

गुणियां जो खूब लताड़ीत्ता ।
दो  नंबर  ब्हाल़े  बोल्ला  दे ,

सच्चे   जो   सूल़ी   चाढ़ीत्ता ।
हुण    झूठोझूठ   गलाई   नैं ,

भगतां  दा जिगरा  साड़ीत्ता ।
भारत  दे   कम्मैं   आए   नीं ,

चुट्टां   नैं  देस   जुआड़ीत्ता ।
के  बणग  “नवीन”  गरीबे दा ,

लोक्कां  नैं   झग्गू   फाड़ीत्ता ?
           नवीन हलदूणवी 

0948846773

काव्य-कुंज जसूर-176201,

जिला कांगड़ा    , हिमाचल ।


http://www.bharatkakhajana.com/category/देशभक्ति/ashish_behal_poetry/पहाड़ी-कविता/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *