गीठू/ नवीन शर्मा

         “गीठू”
सेक सकाई खूब कराई आप्पू जळया गीठू। 

हीटर-शीटर लक्ख लगाए गीठू मड़या गीठू।।
चुगली मैंझर सच्चा झूठा  गुपचुप सुणदा रैंह्दा।

तत्ते ठंडे खौह्रे माह्णू मेळी रखया गीठू।।
अपणे आप फकोंदा रैंह्दा सुख बण्डै ए तत्ता।

सीत बगाड़ी क्या सकदा जे होऐ मघ़या गीठू।।
गोळ चकोणा निक्का बड्डा चिक्का धुरसी घड़या।

लीपी पोती छैळ बणाई अम्माँ धरया गीठू।।
काळ-म्याळे दिक्ख कयोल्ले दुखदा धुखदा खांदा।

गोरी चिट्टी फूक डुआई गास्सैं चढ़या गीठू।।
तिड़-तिड़ फड़-फड़ सुड़-सुड़ सुणया गल्लाँ मतियाँ करदा।

फूक चढाई ताँ फणसोया गब्भैं फबया गीठू।।
रोज़ जुआन्नी औंदी इसजो लसकी मचकी चमकै।

हत्थाँ पैराँ मुँहुएँ सेकी पिट्ठी चढ़या गीठू।।
सुख दुख दिखदा सुणदा  सैंह्दा रोंदा हसदा कन्ने।

इक दो पीढ़ी पाळी पोसी टुटया भजया गीठू।। 
गंद कदी बी झलदा नी ऐ लांदा फट्ट सकैतां।

किछ पाया ताँ मुस्का मारै धू धू धुखया गीठू।।
सच्च ‘नवीन’ गलांदे भाऊ गीठू गुपचुप बोलै।

बणियै रैंह्णा छैळ छबीला मघया मघया गीठू।।
नवीन शर्मा 

गुलेर-कांगड़ा 

१७६०३३ 

📞9780958743

जानिए खूबसूरत कांगड़ा के बारे में ये जानकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *