बहल होरां बोल्लेया/नंद किशोर परिमल

बहल होरां बोल्लेया )
नौएं साले पर कविता लिखी भेजा, बहल होरां बोल्ली भेजेया जी ।
कविता बणदी आसान नीं लग्गै ,विचार मनैं नीं कोई वी औंदा जी ।
लक्ख जोर लगाई दिक्खेआ मित्तरो ,बोल नीं कोई मन्नैं आई गौंदा जी ।
खेल निआणेआं दा नीं कविता लिक्खा, जाई जाई न्नैं मैं बौड़ी बौंदा जी ।
खड़े खड़ोते विचार जाह्लूं मनें च् उतरै ,ताह्लु अपणे आप लक्खोंदा जी ।
आया विचार जे ताह्लु थम्मी लेआ ,तां खरा खरा लक्खोंदा जी ।
उसा घड़िआ जे सैह् नीं थम्मेंआं, रुस्सी ओबरिया जाई न्नैं बौंदा जी ।
बहल होरां बोल्लेया कविता नौएं साल्ले उप्पर लिखी भेजा कविवर सारे जी ।
लिक्खणे दी गल्ल तां बड़ी निराली, सोचेयां न किछ वी लिखोऐ जी ।
फी बी कविता बणी गेई यारो, बहल होरां दी गल्ल याद जाह्लु औंदी जी ।
परिमल सुत्तेया पेआ था राती,उठ्ठदेआं बहल जी कविता अप्पणे आप लक्खोइए जी ।
नंद किशोर परिमल, गांव व _डा, गुलेर
तह, देहरा, जिला, कांगड़ा (हि _प्रदेश )
पिन, 176033, संपर्क, 9418187358
आप भी नववर्ष पर अपनी रचनाएँ हमे भेज सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *