पहाड़ी ग़ज़ल/डॉ पीयूष गुलेरी

              *****     ग़ज़ल ******

                                  डॉ पीयूष गुलेरी

       तिस-दे  खेःल्लन खूब  नियाणे।

        जिस-दैं होंदे  पेड़ुऐं    दाणे ।।1।।

                        ***

          कम्मे  दीयां   गल्लां   दसदे  ।

        जिह्नां-दे  घरां-च  होन  सियाणे।।2।।

                        ***

          टौंह्च-टपौंह्चे  मूंह   लुकांदे  ।

          अक्सर जेह्ड़े   होंदे   काणे ।।3।।

                        ***

           डी-जे दी-ऐ  डैंह्जो-डैंह्जी ।

         मुक्का  कःरदे   गीत    पुराणे ।।4।।

                         ***

           टेपां-दी  हण  टेपा  -टेपी  ।

         नैंईं  जणासां   गांदियां गाणे।।5।।

                        ***

           झूठो  झूठ  गलाई   जा-दा  ।

          नेते-दी  गल   नेता    जाणे।।6।।

                         ***

            वोटरां  -दीयां  नज़रां   बन्हीं।

           लीडर    तणदा   ताणे   बाणे।।7।।

                        ***

           जिह्नां  -दे  दंद्दां थल्लैं छोल्ले  ।

           चब्बी- चब्बी  तिह्नां   चबाणे  ।।8।।

                        ***

          सस्सर- भाटियां  खाई   अप्पूं  ।

          सांह्जो   पूट्ठे   पाठ    पढ़ाणे।।9।।

                         ***

          बाबेयां- दे  चल्ला  -दे   ढाबे  ।

          ढाबेयां  -व्हाळे   लोक  मुकाणे।।10।।

                        ***

          सुथरी   -सच्ची   गल  गलाणी  ।

          करने  -नीं    हण   झाणे माणे ।।11।।

                         ***

             पापी, पूणे,पणत  पठंगी   ।

             देऽई औणे   जाई    ठाणे। ।12।।

                         ***

             नेतेयां -दे  हण  होए घराने  ।

             बोल ‘पीयूषा’  किंह्यां ढाणे।।13।।

                        ***********

             **अपर्णा-श्री,हाऊसिंग कालोनी 

          चील गाड़ी धर्मशाला 176215

                      हिमाचल प्रदेश 

                मोबाइल 9418017660 

             दू भा 01892226224
                         ****

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *