बस्सणा जाई न्नैं गुलेर)
दिल्लिया नीं बस्सणा, बम्बई नीं बस्सणा।।
मैं तां बस्सणा जाई न्नैं गुलेर, अम्मा जी बस्सणा जाई न्नैं गुलेर
बच्छुए रा पाणी पीणा, कंडैं बग्गदी बंडेर।
मैं तां बस्सणा जाई न्नैं गुलेर।
सैणियां रे बागे सरुआं दा साग, साग छैल बड़ा लग्ददा।
छल्लियां री रोटिया सौगी, खाणे जो मेरा मन बड़ा करदा।
बलोटुए रे अम्बां थल्ले बैठी बैठी दिल नैंइयों ए मेरा रज्जदा।
घड़ी मुड़ी जाई जाई न्नैं, मैं ओत्थू जाई न्नैं बौंदा
गड्डिया री छुक छुक बांकी बडी़ लग्गै मिंजो।
टीसने जाई करी, गड्डी झूटणे रा मन बड़ा करदा।
अम्मां जी मैं तां जाई न्नैं बस्सणां ऐ गुलेर।
पठानकोटैं नीं बस्सणा अमृतसर नीं बस्सणां।
मैं तां बस्सणा जाई न्नैं गुलेर ।
पौंग बांधे री झील एत्थू छैल बड़ी लग्गदी।
बाहरलेयां मुल्कां रे पंछी एत्थू आई आई रैंहदे।
तिन्हां जो वी छैल बड़ा भारी लग्गे गांव मेरा गुलेर।
अम्मां जी मै तां बस्सणा जाई न्नैं गुलेर ।
परिमल बोल्लै बस्सणा जाई न्नैं गुलेर ।।
नंदकिशोर परिमल, गांव व डा. गुलेर
तह. देहरा, जिला. कांगड़ा (हि_प्र)
पिन. 176033, संपर्क 9418187358