मेत्तैं कैह्जो लुक्का  दे /डाॅ पीयूष गुलेरी

                ** ग़ज़ल**

                                __डाॅ पीयूष गुलेरी

             मेत्तैं कैह्जो लुक्का  दे ?

            नेड़ैं   कैंह् _नीं ढुक्का दे ?

                          **

            अम्मां बोल्लै मुनुएं  जो  ।

           छोड़ैं_छोड़ैं   पुक्का   दे  ।।

                          **

           डेल्लेयां  फाड़ी  दिक्खै _जे।

           तिस_दियां हक्खीं भुक्का दे।।

                           **  

            उंदल़ां_उंदल़ां ,देया _दा ।  

           फ्ही कैह्जो नीं  झुक्का_ दे।।

                          **

             झूठ्ठो झूठ गलाई _नैं ।

          अपणियां जीब्भा टुक्का_दे।।

                        **

         कम कमाणा खरा_खरा ।

        बारिया_तैं कैंह्  उक्का_दे।।

                      **

          पत्थर जिह्नां   परेड़ीत्ता ।

        तिह्नां _दैं  खोरैं  सुक्का_दे।।

                        **

        मतलब चारी  बूह्का _दी ।

        मित्तरचारे      मुक्का_ दे  ।।

                       **

       जाह्लू जुगत  जुगाड़  नैंईं  ।

       लाऽई  ताह्लू  तुक्का _दे  ।।

                     **

       नां  नीं  करनी  बो  गुडुआ! ।

       भौंआं , रुक्खा _सुक्का  दे ।।

                       **

        नाळू _खोळू प्हाड़ां  _तैं  ।

        बुक_बुक_चारैं  बुक्का_दे।।

                       **

         घर आया सैह्  मां जाया।

        बिन्नां,पाणी,  हुक्का _दे ।।

                       **

         असां  निवासी’पीयूषा’।

        सब्बो  मांह्णू, फुक्का दे।।

                    ☆☆☆☆

                    ■■अपर्णा-श्री,

   हाऊसिंग काॅलोनी,चीलगाड़ी

      धर्मशाला पिन 176215

      मो▪94180176215

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *