ठुळठुळ गोड्डे करना लग्गे/नवीन शर्मा

ठुळठुळ गोड्डे करना लग्गे जङ्घां जोर गुआईतॉ।
जीण कबड्ढी खेली खेली काळा पित पतयाईतॉ।।

जङ्घां गास्सैं ताणी चढ़या धरत बगान्नी होई जी।
फंगां जो पळचेरी ढैट्ठा मिलया माल लुटाईतॉ।।

सिद्दे रस्ते पत्थर सुट्टी जाड़ बसूह्टाँ धीह्ड़ा दॉ।
उळझी पुळची लत्त फसाई सोच्चै कम्म कमाईतॉ।।

पेट भराई करदे करदे जिंद नमाणी होई ऐ।
खिंज खँजाई करियै कञ्जर अपणा आप खुअॉईतॉ।।

बाँदर बणियै विळटाँ मारै टिकियै बैह्णां मुस्कल जी।
विसय वकारां बिच्च घचोळी खक्खर पिण्ड बणाईतॉ।।

सिक्ख बण्डाई चलती रेई न्हेरें पत्थर ढोआदॉ।
मुड़ियै सोच जरा ओ मुनुआँ ऐ जे किछ समझाईतॉ।।

सोच पुराणी गल्ल पुराणी लोकी औंदे जांदे जी।
बड्डे बुड्ढे बाब्बे बोल्लण फ़ी बी ढोल बजाईतॉ।।

आया था कुछ करने खातर घोळ घुळाई छड्डी नी।
केह्ड़ी चाल चलाई मड़या अपणा छप्पर ढाईतॉ।।

हर बेल्ले था बेल्ली तेरा कन्नै कन्नै चलदा था।
राँझण यार भुलाया अपणा झिल्लाँ मुण्ड फसाईतॉ।।

हुण बी देर ‘नवीन’ मती नी सञ्झ भ्यागा झाती लॉ।
सुरग हुलारे लैंदा जिन्हीं मन बिच राम बसाईतॉ।।

नवीन शर्मा
गुलेर-कांगड़ा
१७६०३३
9780958743

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *