ग़ज़ल

रोज़ छापदे खबर नौंई अज खबारां ते भी डर लगदा,
दुस्मणा कनै मिली जा दे हण गद्दारां ते भी डर लगदा।

देश मेरे च रोज़ हौंदा कोई न कोई बड्डा दिन,
सच्च गला दा मित्रो मैं हण तिहारां ते भी डर लगदा।

किह्यां बौह्णा अपणिया जां बगानिया गड्डिया बिच
सच्च गलांदा छुणकु मिंजो हण कारां ते भी डर लगदा।

चढ़ी गै जे पुल़सा हथैं वेशक बाजी जुर्में,
सैह नी सुणदे कदि कुसी दी मारां ते भी डर लगदा।

बेची दिक्खे मैं बी डंगर हटि औंदे रोज़ घरैं,
किह्या भेजां तिन्हा बापस इन्हा ठारां ते भी डर लगदा।

पैसे देई कमुआई लैंदे अक्सर बड्डे. लोक,
गरीव वचारा हाखीं भरदा बगारां ते भी डर लगदा।

नेहरी चलै छप्पर उडै धूड़ मिट्टी गासैं
क्या करिये असां वचारे डुआरां ते भी डर लगदा।

समझदारां जो किछ भी गलांगे शैद सुणी लैण,
नासमझां जो क्या गलाणा गुआरां ते भी डर लगदा।

अम्बर गरजै बिजली लिसकै थर थर कम्बै जिगरा,
ठाण पौए फसल उजड़ै फुहारां ते भी डर लगदा।

कुसी बिटिया दा कराई देया रिश्ता सारे गलान खरा,
क्या गलाणी अज लोकां दी रबारां ते भी डर लगदा।

रस्ते कुरस्ते बिच चौराहें अज्ज बडोंदा माहणु,
बंब बंदूकां दी गल्ल छड्डा तलबारां ते भी डर लगदा।

घर गृहस्ती हण नी रेही जेहड़ी होंदी थी पैहलैं,
हण तां सैह दिन आइ गेयो परुआरां ते भी डर लगदा।

गहणे बणुआए कुड़िया तांई सुन्ना दित्ता खरा,
खोट भरया सुन्ना चोरया कारिगारां ते भी डर लगदा।

सारे बोलदे मुंडु चैहदा कुड़ी नी चाहन्दा कोई,
अज्जकल पापी लोकां देयां वचारां ते भी डर लगदा।

धुहार लेई मैं रोटी खांदा लाला मारै डंडी,
दुइं दे सैह चार लिखदा हण धुआरां ते भी डर लगदा।

जगह जगह फुल खिड़यो हस्सै जिह्यां कुदरत,
पता नी काह्लू हिल्लण होणा बहारां ते भी डर लगदा।

पीड़ मने दी मन ही जाणै होर जाणै तां कुण जाणै,
भाब दिले दे बड़े इ हलके हण भारां ते भी डर लगदा।

मता किछ सिखाया स्हांजो बुजुर्गां जीणे तांई,
नी मन्नी असां गल्ल तिन्ना दी संस्कारां ते भी डर लगदा।

हण नी पुछदा गरीवां कोई नी अपणा नी बगाना,
सच्ची गल्ल बुरी “निराश” सरकारां ते बी डर लगदा।

सुरेश भारद्वाज निराश:evil:
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पीओ दाड़ी धर्मशाला हि प्र
176057