प्रेम के कुछ पुष्प/हेमन्त पांडेय

प्रेम के कुछ पुष्प लिए फिरता हूँ
अनजाने शहरो में लोगों से अक्सर
मुस्कुरा कर यूँ ही मिला करता हूँ |

अपना न होकर भी अपना लगता हूँ
काटें हैं मंजिलो के पग पर मेरे अक्सर
पर लोगों के दिलों में प्रेम पुष्प खिला रखता हूँ |

न पाने से डरता हूँ न खोने से डरता हूँ
जिंदगी अनमोल जो मिली है जहाँ में
उसी जिंदगी में प्रेम के कुछ पुष्प लिए फिरता हूँ |

मजहब की दीवारों से बड़ी दूर
इंसानियत का इक मुकाम बना रखता हूँ
उसी में प्रेम पुष्पों को अपने सदा से संजो रखता हूँ |

प्रेम पुष्पों को ही मानवता कहता हूँ
मानवता में ही संसार को बसा रखता हूँ
मानवता के लिए अक्सर जहाँ में
मैं (हेमन्त )प्रेम के कुछ पुष्प लिए फिरता हूँ |

कवि – हेमन्त पाण्डेय (अमेठी)
9082747967

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *