लगदी मिंजो छैळ जुआन्नी तेरी भलिये।
मुड़-मुड़ जित्थू दिलड़ू पांदा फेरी भलिये।।

गोरे चिट्टे खाखड़ुआँ मन मोई लेया।
करदी गल्लाँ जाह्लू घेरी-घेरी भलिये।।

तीर नज़र दे मारी-मारी मारी दित्ता।
तेरा दिखणा लग्गै झक्ख हनेरी भलिये।।

भुल्ली रस्ता अज्ज गुआचा दिलड़ू एत्थू।
जुल्फाँ काळे बद्दळ रात घ्नेरी भलिये।।

बुल्ल गुलाबी सुर्खी हस्सै तूँ मन-मोह्णी।
दंदाँ चम-चम चमकै बिजली तेरी भलिये।।

उच्चा पर्बत ठोडी नक्क कटारी लम्मीं।
भिरुआँ तीर कमानी दिक्ख तरेरी भलिये।।

गल्लाँ तिल्ल नसाणी छैळ बणांदी रज्जी।
मैं तेरा कुछ बी नी पर तूँ मेरी भलिये।।

चाल चलै मस्तानी रक्खै पैर सँभाळी।
रुक्ख हवॉ बी लैंदी अपणा घेरी भलिये।।

पूजा तेरी करने जो मेरा दिल बोल्लै।
परियाँ दी बी राणी सूरत तेरी भलिये।।

हुस्ण सँभाळी रखया अपणा मेरे ताईं।
साफ ‘नवीन’ गलांदा ऐ तूँ मेरी भलिये।।

नवीन शर्मा
गुलेर-कांगड़ा
१७६०३३
9780958743