ग़ज़ल

भुख -नंग मिटै हुण देहा कमाल होए,
पेट भरी मिलै, रोटी ना सवाल होए।

तिथ तिहार मनाण अज मिली ने सारे,
सिद्दे रसते चलण ना टेढ़ी चाल होए।

साफ रैहण नीतां ना पा कोई पुआड़े,
प्यारे दी होए बरखाना कोई मलाल होए।

पिचकारिया ने रंगा बेशक तुसां कपड़े,
सबना दे दिलां च मल़या गुलाल होए।

दुसमण अज सारे, मित्तर होई जाण,
रैहण सब मिलीनै,ना लड़ने दा ख्याल होए।

सारेयां वाह्ल होए रैहणे जो इक्क टपरू,
डंगरा ताई वी तां, इक्क घराल़ होए।

नेक कमाई करण, हुण तां लोक सारे,
ना कुसी वाह्ल कोई दो नम्बरी माल होए।

समाजे री सेवा हुण मकस्द होए स्हाड़ा,
असां गाँह गाँह बदिये , हथें मशाल होए।

खाण-पीण सारे कनै लैण खूव मौजां,
ना हुण देसे मेरे च कोई कंगाल होए।

अतवादी सारे हुण बणी जाण माह्णु,
ना धरतिया दा रंग कदि लाल होए।

पहाड़ी भासा स्हाड़ी दिन रात करै तरक्की,
अठवीं सूचिया पुज्जै सबना जो ख्याल होए।

किस्ती स्हाड़ी कदि बी , कुथी बी ना रुकै,
होए बेशक सुनामी जां निराश भूचाल होए।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पीओ दाड़ी धर्मशाला हिप्र
176057
मो० 9805485225