पहाड़ी कविता/नवीन हलदूणवी 

खंड -काव्य दा त्रीया ध्या 

             नवीन हलदूणवी 
कन्नैं  मुर्कू    औंगल़    मुंदरी ,

   हत्थड़ुआं        गल़गोज्जू ।
चोल़ू — टोप्पू     डोरे    ब्हाल़े ,

हन       प्हाड़ां    दे     खोज्जू ।
ठंड –सिआल़ा तौंदी –बरखा ,

धणां         चारदे          प्हाड़ ।
नोक्खू–गद्दण  रूप–खज़ानां  ,

दी       धरती      ऐ      प्हाड़ ।।
        नवीन हलदूणवी 

09418846773

काव्य-कुंज जसूर-176201,

जिला कांगड़ा     
खंड -काव्य दा त्रीया ध्या 

              नवीन हलदूणवी 
फिरकड़ुआं नैं खूब सताए ,

भाइयो      इत्थू        लोक ।
काछुए  लेक्खा मुंड  बचाई ,

लुक्की        गे      डरपोक ।
छात्ती ताणी किच्छ खड़ोत्ते,

ज़ुल्म        होया      दुफाड़ ।
प्यार पवित्तर  निर्मल पाणी ,

दी    धरती     ऐ      प्हाड़ ।।
          नवीन हलदूणवी 

09418846773

काव्य-कुंज जसूर-176201,

जिला कांगड़ा  , हिमाचल ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *