बेदां दियां ऋचां हन सैह/सुरेश भारद्वाज निराश

बेदां दियां ऋचां हन सैह

कुथु चली गेइयां अज अम्मा सैह पुराणियां,
गीठ्ठे बाह्ल बेही थियां सुणादियां कहाणियां।

डव्वल बैड्डां पर अज लोक हन सौआ दे,
बगड़ु दे मंजोल़ु मुक्कै तिन्हा दी नसाणियां।

बारी बारी छड्डी जा दियां अज सैह स्हांजो,
किह्यां करी असां हुण अम्मा हण बचाणियां।

रल़ियां लेइ चलदी थी अगें अगें बड्डी अम्मा,
पिच्छें ढोल नगारे बजदियां याणियां स्याणियां।

बरखां नी होईयां रत्ता आल़ीं भी सुकी गेइयां,
नाल़ू खोल़ू सारे अज्ज होए नै बाजी पाणियां।

होण जाह्लु बरखां घरें घरें चुड़न खपरे,
दस्सा कुथु असां एह अम्मा हन सुआणियां।

भरी भरी रखी गैईयाँ सैह खिंदां दियां बिल़गां
कोई नीओड्डै अज्ज खिंदा कुजो नै डुआणिया।

नौइयां आइयां नूआं रौव बड़ा दिंदियां,
अम्मां जो बोलदियां जवरियां पुराणियां।

टैमें पर नी दिंदियां रोटी पाणी तिन्हा जो,
तिनां दी बी बारी औणी नूआं सैह बी सताणियां।

कुसी कुसी घरें ई रेहीयो कोई कोई अम्मा हुण,
बाकी बणी गेइयां हन बीतियां कहाणियां।

कुथी कुथी पुजाई दित्तियां अज सैह बृद्ध आश्रमें
कुस अग्गैं रोणा किह्यां एह बापस घर पुजाणियाँ।

कठरोई करी बेही जान्दा बेशक टव्वर सारा,
लगदा नी घर खरा हण बाजी सयाणियां।

दिनें सांइ घरोआ दियां हुण अम्मा एह स्हाड़ियां,
हौलैं हौलैं मुका दियां हुण एह फुलबाड़ियां।

बेदां दियां ऋचां हन सारियां स्हाड़ियां अम्मां,
निराश इसा किरपा दियां गल्लां कया गलाणियां।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पीओ दाड़ी धर्मशाला हिप्र
मो० 9418823654

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *