वक्त-ववक्ती    न्हेरी   झक्खड़/नवीन हलदूणवी 

खंड -काव्य दा त्रीया ध्या 

                 नवीन हलदूणवी 
वक्त-ववक्ती    न्हेरी   झक्खड़,

पौंदा         खूब         झमेल्ला ।
बिज्ज कड़ाक्की लसकी गास्सैं,

दित्ता       अणमुक          रेल्ला ।
फसल   डुआई   साड़ी   सुट्टी ,

घर-घर         पिआ        रंगाड़ ।
बद्दल़   बरखा   झड़ियां   आणीं ,

दी       धरती       ऐ       प्हाड़ ।।
                नवीन हलदूणवी 

09418846773

काव्य-कुंज जसूर-176201,

जिला कांगड़ा  ,. हिमाचल l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *