घर बना रहे/ डॉ. पीयूष गुलेरी

***घर बना रहे ****      

                                    डॉ. पीयूष गुलेरी

         आततायी बीमारी के बाद 

        तब तो बड़ा ही आया था स्वाद 

       फ़ोन पर जब बोला था लड्डू चोर

                 नंदकिशोर,. भाई ____

        घर आ जाओ न,मन बहला जाओ न ।।

          लगी है आस/हम सब हैं उदास 

                 की है अरदास, कि

 ठीक होने पर कुछ समय/रहेंगे पास -पास।

                         ***

    पता चल गया था मुझे,इधर उधर से 

 वह उदास रहता था, भगवती से कहता था__

          बीमार भाई हो जाए स्वस्थ 

           मां! मां !! करो आश्वस्त

    रख लिए व्रत,टेके माथे,मनाए कुलदेवता 

       विश्वासी थ:ढ़ियां,बाबे  और म:ढ़ियां

      मनाया भोलाभाला, पूजा शिवद्वाला

    प्रांगण के बाहिर,पीपल का ट्याल़ा ,

      देता रहा गवाही, करता वाहवाही

    देता है फेरियां , अनगिनत/बिन गिने।।

     फ़ोन पर पर बोला था,भाई लड्डू चोर 

          प्रिय नंदकिशोर__बाबा की कृपा

         मढ़ियों की आशिष     ,गूंजा शिवद्वाला 

        खुश हुए भोले,ओले! ओले!! ओले!!!

              दैया! दैया!!दैया!!!

मान गई मैया/हुआ आश्वस्त/आप हैं स्वस्थ ।

      आ जाओ न/मन बहला जाओ न 

                         ******

     मैंने माना,घर का जाना, बड़ा ही सुहाना

           मां की ममता,प्रेम-प्यार समता

                        रंग खूब जमता।

      बनाए’बेह्ड़े-भटूरू’छोटी भौजाई ने 

   मतंजना मीठा,शुभ समाचार,रख दिया अचार

        पृथक -पृथक नाम के/कटे हुए आम 

                **************

  इर्द-गिर्द जम गये, डट गए भाई,बेटेव बेटियां 

        भतीजे-भतीजियां, पोते और नाती 

        जग गई बाती, अद्भुत – नेह की । 

खी-खी,खी-खी/हो रहा ठठ्ठा,खा रहे भटूरू

            सब अनगिने,मिले सब जने 

         स्वयं को भूल,पेट गये फूल 

    चढ़ रहे हम सब/आनंद की सीढ़ियां 

                   चार-चार पीढ़ियां ।

                           ** 

     मज़ा कुछ और ही है इस आस्वाद का 

       अशब्द नि:शब्द सुन्दर स्वभाव का 

  खुश जन-जन, रोमांचित मन, सिहर उठा तन 

  प्रेम प्रखर, हर हर हर,शायद इसे कहते 

           यही है घर ।यही है घर ।।

            मां भगवती! मां सरस्वती!!

            हे मेरी अंबा!हे जगदम्बा!!

            बना रहे घर, घर बना रहे।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *